CBSE Board Term-1 Exam Date

CBSE 10th 12th Term 1 Exam : ऑफलाइन आयोजित होगी सीबीएसई 10वीं- 12वीं बोर्ड की परीक्षा, दिशा-निर्देश जारी

CBSE 10th 12th Term 1 Exam :
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने गुरुवार को घोषणा की कि 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा दो बार में कराई जाएगी  और यह ऑफलाइन तरीके से नवंबर के महीने में शुरू कराई जाएगी

सीबीएसई ने बताया कि पहले टर्म की परीक्षा नवंबर में आयोजित की जाएगी, जबकि दूसरे टर्म की परीक्षा मार्च तथा अप्रैल में आयोजित की जाएगी। प्रत्येक पेपर का समय 90 मिनट की होगी तथा सवाल ऑब्जेक्टिव टाइप के होंगे। सीबीएसई ने बताया कि सर्दी के मौसम के ज्यादा सर्दी होने पर अभ्यर्थियों को दिक्कत नहीं होनी चाहिए इसलिए सुबह 10.30 बजे के बजाए 11.30 बजे से परीक्षा शूरु कराई जाएगी/
सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि कोविड-19 चलते को ध्यान में रखते हुए एक वर्ग कक्षा में सिर्फ 20 छात्रों को पेपर देने के लिए बैठने की अनुमति दी जाएगी।

बोर्ड ने इससे पहले जुलाई में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा 2022 के लिए एक विशेष मूल्यांकन योजना के बारे में घोषणा की थी, जिसमें शैक्षणिक सत्र को विभाजित करना, दो टर्म- में परीक्षा आयोजित कराना और पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत बनाना शामिल था।

सीबीएसई की ओर से जारी परिपत्र में कहा गया, ‘चूंकि सभी संबद्ध स्कूलों द्वारा प्रमुख विषयों की पढ़ाई करायी जाती है, इसलिए इन विषयों की परीक्षाएं पहले की तरह कराई जाएगी इसलिए डेट शीट तय करके आयोजित की जाएंगी।’ सीबीएसई ने कहा, ‘कुछ विषयों के संबंध में सीबीएसई ने इन विषयों की पढ़ाई कराने वाले स्कूलों का एक समूह बनाया जाएगा, जिसके तहत सीबीएसई द्वारा इन स्कूलों में एक दिन में एक से अधिक पेपर करायें जाएंगे।’

CBSE Board Term – 1 Exam date

CBSE 10th 12th Exam Dates 2021 : सीबीएसई ने अकादमिक वर्ष 2021-2022 के लिए 10वीं 12वीं कक्षा की टर्म-1 परीक्षा तिथि जारी कर दी हैं। सीबीएसई 10वीं और 12वीं के एग्जाम 15 नवंबर से 24 नवंबर तक कराये जाएगे

Exam Date Term – 2

आमतौर पर सीबीएसई 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षाएं मार्च में आयोजित होती हैं लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी  के चलते सीबीएसई बोर्ड ने दसवीं और बाहरवीं की परीक्षाओं को दो टर्म में कराने का निर्मेंण  लिया है। टर्म वन की परीक्षा नवंबर में आयोजित होने जा रही हैं। टर्म-2 की परीक्षाएं मार्च में आयोजित कराई जा सकती है

परीक्षा टाइम टेबल

टर्म-1 परीक्षा के प्रश्न पत्र में मल्टीपल चॉइस प्रश्न पूछे जाएंगे।जिसमें परीक्षा का समय 90 मिनट दिया जाएगा और इसमें सिलेबस का 50 फीसदी हिस्सा होगा।

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद ने बोर्ड (सीबीएसई) ने सितंबर माह में ही 10वीं और 12वीं (2021-22 सत्र) टर्म 1 परीक्षा के लिए सैंपल पेपर और मार्किंग स्कीम जारी कर दी थी। इन सैंपल पेपर की मदद से स्टूडेंट् को परीक्षा में आने वाले सवालों के प्रकार और उनकी मार्किंग स्कीम के बारे में जानकारी मिल मिल गई थी। जो उनकी बोर्ड परीक्षा की तैयारी में काफी मदद करेंगे।

सीबीएसई बोर्ड टर्म 1 परीक्षा के अंकों का उपयोग सीबीएसई बोर्ड 2022 के फाइनल रिजल्ट बनाने के लिए भी किया जाएगा।

CBSE 10वीं 12वीं टर्म-1 की परीक्षा नवंबर में, शिक्षक कोरोना ड्यूटी में तैनात शिक्षक

CBSE 10th 12th Exam 2021 : अगले माह नवंबर में 10वीं और 12वीं के छात्रों की सीबीएसई के पहले टर्म की परीक्षा होने वाली है। बावजूद कोरोना ड्यूटी में लगे टीजीटी और पीजीटी शिक्षक अभी तक अपने शिक्षण कार्य पर वापस नहीं लौट सके हैं। शिक्षा निदेशालय ने सभी जिलाधिकारियों से कोरोना ड्यूटी में कार्यरत टीजीटी और पीजीटी शिक्षकों को तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त करने का आग्रह किया है। जिससे शिक्षक दोबारा से अपने शिक्षण कार्य में लौट सकें। निदेशालय ने कहा कि शिक्षकों की जगह दूसरे विभागों के कर्मियों या स्कूल प्रमुखों से मंजूरी लेकर उन शिक्षकों को लगाया जाए जो स्कूल खुलने के बाद शिक्षण कार्य में नहीं लगे है।

निदेशालय ने कहा कि सीबीएसई की नवंबर में पहले टर्म की परीक्षा होनी है। प्री-बोर्ड और बोर्ड की परीक्षा की तैयारी के लिए इस समय शिक्षकों का स्कूल में होना महत्वपूर्ण है। सभी जिला डीडीई, क्षेत्रीय डीडीई और स्कूल प्रमुख नौवीं से लेकर 12वीं से संबंधित शिक्षकों को तुरंत रिपोर्ट करने के निर्देश दें। ताकि, परीक्षा संबंधी तैयारियों को समय पर कराया जा सके।
इस संबंध में राजकीय विद्यालय शिक्षक संघ जिला पश्चिमी-ए के सचिव संतराम ने कहा कि अभी भी काफी संख्या में शिक्षक कोरोना ड्यूटी में लगे है। कोरोना नियमों के चलते स्कूलों में एक कक्षा में सीमित संख्या में छात्रों को पढ़ाया जा रहा है। इससे शिक्षकों की आवश्यकता भी दोगुनी हुई है। परीक्षाओं के मद्देनजर इन शिक्षकों को कोरोना ड्यूटी से कार्य मुक्त किया जाना जरूरी है।