टेलेग्राम से जुड़े 👉 यहाँ क्लिक करे
Youtube 👉 यहाँ क्लिक करे

क्या शाहीन अफरीदी की चोट पाकिस्तान को ले डूबी।

पाकिस्तान की हार का क्या कारण है।

इंग्लैंड अब वर्ल्ड क्रिकेट में पहली ऐसी टीम बन गई है जिसके पास वनडे और टी20 वर्ल्ड कप दोनों खिताब है। इंग्लैंड ने इससे पहले 2019 वर्ल्ड कप अपने घर जीता था। दोनों टाइटल इस समय इंग्लिश टीम के पास है इंग्लैंड ने टी20 वर्ल्ड कप 2022 के फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान को 5 विकेट से धूल चटाकर इतिहास रच दिया है। इस जीत के साथ इंग्लैंड ने दूसरी बार टी20 वर्ल्ड कप का खिताब जीता है। इंग्लैंड अब वर्ल्ड क्रिकेट में पहली ऐसी टीम बन गई है जिसके पास वनडे और टी20 वर्ल्ड कप दोनों खिताब है। इंग्लैंड ने इससे पहले 2019 वर्ल्ड कप अपने घर जीता था। यह दोनों टाइटल इस समय इंग्लिश टीम के पास है। इससे पहले कोई टीम ऐसा नहीं कर पाई है।

फाइनल में तीन झटके विकेट बने प्लेयर ऑफ द मैच।

बराबरी कर ली है। टी20 वर्ल्ड कप 2022 से पहले वेस्टइंडीज ही एकमात्र ऐसी टीम थी जिसके पास दो टी20 वर्ल्ड कप टाइटल थे। इस टीम ने 2012 और 2016 में ये ट्रॉफी उठाई थी। पाकिस्तान पर जीत के साथ इंग्लैंड के पास भी दो टी20 वर्ल्ड कप के खिताब हो गए हैं। इंग्लैंड इससे पहले 2010 में चैंपियन बनी थी बात मुकाबले की करें तो पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 139 रनों का लक्ष्य रखा था। इस स्कोर का पीछा करते हुए इंग्लैंड को शुरुआत तो अच्छी मिली, मगर बीच में पाकिस्तानी गेंदबाजों ने जोरदार वापसी की। स्टोक्स शुरुआत में थोड़ा जूझ रहे थे, मगर उन्हें अपनी क्षमता पर भरोसा था जिस वजह से उन्होंने दबाव में आकर भी अपना विकेट थ्रो नहीं किया।

 

पाकिस्तान इंग्लैंड की हार के बाद छलका बाबर आजम का दर्द बताया कहां हुई चौक।

बराबरी कर ली है। टी20 वर्ल्ड कप 2022 से पहले वेस्टइंडीज ही एकमात्र ऐसी टीम थी जिसके पास दो टी20 वर्ल्ड कप टाइटल थे। इस टीम ने 2012 और 2016 में ये ट्रॉफी उठाई थी। पाकिस्तान पर जीत के साथ इंग्लैंड के पास भी दो टी20 वर्ल्ड कप के खिताब हो गए हैं। इंग्लैंड इससे पहले 2010 में चैंपियन बनी थी।

जीरो से हीरो बनने का सफर 6 साल से दिल में लेकर घूम रहे थे।

इंग्लैंड की जीत में शाहीन अफरीदी की चोट ने भी अहम भूमिका निभाई। ब्रुक्स का कैच पकड़ने के दौरान अफरीदी चोटिल हो गए थे। 16वें ओवर में जब वह गेंदबाजी करने आए तो मात्र 1 गेंद डालने के बाद वह असहज महसूस करने लगे और उन्होंने मैदान छोड़ दिया। यहां से इंग्लैंड ने प्रहार करना शुरू किया और मात्र 18 गेंदों में मैच खत्म कर दिया।

इंग्लैंड को इस वर्ल्ड कप में एकमात्र हार का सामना आयरलैंड के खिलाफ करना पड़ा था, इसके अलावा ये टीम टूर्नामेंट का कोई मैच नहीं हारी है।

अपने दोस्तों को भी शेयर करे
टेलेग्राम से जुड़े 👉 यहाँ क्लिक करे
Youtube 👉 यहाँ क्लिक करे
टेलेग्राम से जुड़े 👉 यहाँ क्लिक करे
Youtube 👉 यहाँ क्लिक करे

Leave a Comment